सांस की बीमारी वाले मरीजों में भी मिलने लगा कोरोना वायरस

सांस की बीमारी वालो को है ज्यादा खतरा 

नई दिल्ली- तमाम एहतियात बरते जाने के बाद भी भारत में कोरोना वायरस का खतरा बढ़ता जा रहा है। सरकार की लाख कोशिशों के बाद भी यह बेहद संक्रामक बीमारी फेज 3 में जाती नजर आ रही है। इस बीच इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रीसर्च की एक डराने वाली रिपोर्ट सामने आई है। आईसीएमआर के मुताबिक, सांस से संबंधित बीमारी से गंभीर रूप से ग्रसित हर 100 मरीजों में लगभग 2 कोरोना वायरस से ग्रसित हैं । दिल्ली में यह आंकड़ा और भी ज्यादा है। यहां हर 100 मरीज में पांच से अधिक Coronavirus पॉजिटिव मिले हैं, जबकि महाराष्ट में 4और उत्तर प्रदेश में 1.5 मरीज Coronavirus पॉजिटिव पाए गए हैं।



क्या मतलब है इस रिपोर्ट का:-सांस की बीमारी से गंभीर रूप से ग्रसितबीमार हर 100 मरीज में लगभग 2 मरीजों का Coronavirus पॉजिटिव मिलना इसके कम्युनिटी ट्रांसमिशन के फेज में पहुंचने का  पहला संकेत है। ध्यान देने वाली बात यह है कि इनमें 40 फीसदी मरीजों की ट्रेवल या Coronavirus संक्रमित मरीजों के संपर्क में आने की कोई हिस्ट्री नहीं है।आईसीएमआर के अध्ययन में दिल्ली में 277 मरीजों काटेस्ट किया गया, जिनमें 14 Coronavirus पॉजिटिव मिले ।उत्तर प्रदेश में 295 मरीजों में चार कोरोना पॉजिटिव पाए गए।आईसीएमआर ने सरकार को इस अध्ययन के आधार पर Coronavirus के खिलाफ अपनी लड़ाई को केंद्रित करने को कहा है ताकि कम्युनिटी ट्रांसमिशन के फेज में पहुंच चुके स्थानों पर खासतौर पर ध्यान दिया जा सके।

Post a comment

0 Comments