मेयो में बंद पड़ी पीसीआर मशीन,कोरोना टेस्ट पर लगा ग्रहण

पीसीआर मशीन बंद पड़ने का कारन क्या है ?


नागपुर- आरेंज सिटी में पाजिटिव मरीजों की संख्या 16 पर आकर स्थिर हो गई है. लेकिन संदिग्ध मरीजों की संख्या लगातार बढ़ रही है. दिल्ली के मरकज से लौटे लोगों को भी क्वारंटाइन किया गया है. स्थिति यह है कि एक दिन में करीब 100 से अधिक संदिग्धों के नमूनों की जांच की जा रही है. यह कार्य पिछले महीने भर से सतत रूप से जारी है. यही वजह रही कि वर्कलोड बढ़ने से शुक्रवार को 'पालिमरेज चेंज रिक्शन' (पीसीआर) मशीन बंद गई. मशीन के बंद होने से साथ ही कोरोना के सभी टेस्ट भी बंद हो गये हैं. सभी संदिग्धों के नमूने प्रयोगशाला में सुरक्षित रखे गये हैं. इस बीच मेयो प्रशासन द्वारा पुणे की लैब से संपर्क कर मशीन के जल्द सुधार की मांग की गई है. मार्च महीने से पहले सप्ताह से ही मेयो की प्रयोगशाला में कोरोना की टेस्ट जारी है. अब तक सैकड़ों लोगों की जांच की जा चुकी है. होम क्वारंटाइन सहित एमएलए होस्टल में रखे गये लोगों की भी जांच की जा रही है. इतना ही नहीं मेयो और मेडिकल के अन्य वार्ड में भर्ती, जिनमें लक्षण पाये जाते हैं, उनके नमूने भी जांच के लिए भेजे जाते हैं. इस तरह प्रयोगशाला पर दबाव बढ़ा है.

पुणे को दी जानकारी

                         प्रयोगशाला में महीनेभर से दिन-रात टेस्टिंग का काम किया जा रहा है. लेकिन मशीन का मेंटनेंस नहीं होने से ही उक्त स्थिति पैदा हुई है. मेयो प्रशासन द्वारा पुणे की सेंट्रल लैब को अवगत कराया गया है. साथ ही जल्द सुधार संबंधी प्रस्ताव भेजा गया है. बताया गया कि लाकडाउन की वजह से ही यातायात बंद होने से परेशानी आ रही है. सूत्रों ने बताया कि शनिवार तक प्रयोगशाला में काम शुरू हो जाएगा. इसके बाद नमूनों की जांच की जाएगी.
                                     बताया गया कि मेडिकल को भी पीसीआर मशीन मिली है, लेकिन अबतकशुरू नहीं हो सकी है. यदि अब तक उक्त मशीन शुरू हो जाती तो टेस्टिंग का काम नहीं रुकता. पिछले दिनों हाईकोर्ट के निर्देश के बाद प्रशासन ने एम्स सहित मेडिकल में भी प्रयोगशाला शुरू करने की दिशा में कदम बढ़ाया है, लेकिन इस कार्य को अभी वक्त लगेगा. जबतककोरोना के मरीजों की संख्या बढ़ जाएगी.

फिर 15 नये संदिग्ध 

 इस बीच शुक्रवार को मेयो और मेडिकल में 15 से अधिक संदिग्ध मरीजों को भर्ती किया गया है. सभी के नमूने लेकर मेयो की प्रयोगशाला में भेजे गये, लेकिन जांच बंद होने से सभी नमूने सुरक्षित रखे गये हैं. मेडिकल में 3 महिलाओं व 1 बच्चे को भर्ती किया गया है, जबकि नये और पुराने मरीज मिलाकर वार्ड 25 में कुल 7 भर्ती हैं, जबकि वार्ड 49 में एक मरीज भर्ती है.                          


Post a comment

0 Comments